बांग्लादेश में 1971 युद्ध के अपराधी दो शीर्ष विपक्षी नेताओं को फांसी

ढाका। बांग्लादेश में 1971 के युद्ध अपराध में मौत की सजा पाए दो शीर्ष विपक्षी नेताओं को फांसी दे दी गई। शनिवार देर रात राष्ट्रपति ने इन दोनों नेताओं की क्षमायाचना की अपील को ठुकरा दी थी। दोनों नेताओं ने शनिवार को ही राष्ट्रपति से क्षमायाचना की गुहार लगाई थी। हत्या का बाद बांग्लादेश में जमात ने राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया गया है। वहीँ सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस को सतर्क कर दिया गया है।

 

अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रपति अब्दुल हामिद ने जमाते इस्लामी पार्टी के महासचिव अली हसन मोहम्मद मुजाहिद और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी के नेता सलाहुद्दीन कादिर चौधरी की याचिकाएं खारिज कर दीं। इन दोनों नेताओं को 1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान मानवाधिकार उल्लंघन का दोषी पाते हुए मौत की सजा सुनाई गई है।

 

इसके बाद शनिवार रात दोनों को फांसी पर चढ़ा दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि कानून और गृह सचिवालय ने राष्ट्रपति के पास दोनों की याचिकाएं भेजीं और राष्ट्रपति ने कुछ घंटों बाद ही इन्हें खारिज कर दिया। मुजाहिद और चौधरी ऐसे पहले युद्ध अपराधी हैं, जिन्होंने राष्ट्रपति से क्षमायाचना की अपील की थी।

 उधर, पाकिस्तान ने इस पर शोक व्यक्त किया है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com