बिहार चुनाव : पिछले चुनाव के मुकाबले ढाई फीसदी अधिक 56.47% पड़ा मतदान

पटना । बिहार विधानसभा चुनाव में पांचवें व अंतिम दौर का मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। अंतिम चरण में 57 सीटों पर बंपर वोटिंग दर्ज की गई और चुनाव आयोग से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, इस चरण में 59.46 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इस तरह पांचों चरण मिला कर बिहार में कुल 56.47% फीसदी वोटिंग दर्ज की, जो कि साल 2010 के मुकाबले ढाई फीसदी ज्यादा है।

राज्य में वोटिंग में हुए इस इजाफे को जहां नीतीश कुमार की अगुवाई वाला महागठबंधन इस सरकार के पक्ष लोगों के भरपूर समर्थन का नतीजा बता रहा है, तो वहीं विपक्षी बीजेपी नीत एनडीए इसके पीछे लोगों में दोबारा जंगलराज आने के डर को वजह बता रही है।

इससे पहले दोपहर 3 बजे, 51.85 फीसदी, दोपहर 2 बजे तक मतदान 45.62 फीसदी, दोपहर 1 बजे तक 39 फीसदी और 12 बजे तक 31.80 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। वहीं, सुबह 11 बजे तक 24.29 फीसदी, सुबह 10 बजे 17.67 प्रतिशत, नौ बजे तक 11.23 प्रतिशत और शुरुआती पहले घंटे यानी सुबह 8 बजे तक 5.58 प्रतिशत मतदान दर्ज हुआ। पांचवें चरण में 57 सीटें नौ ज़िलों में हैं, जिनमें मधुबनी, दरभंगा, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा, अररिया,किशनगंज, पूर्णिया और कटिहार शामिल हैं।

आज 827 उम्मीदवारों की किस्मत का फ़ैसला ईवीएम मशीनों में बंद हो गया। इनमें कई बिहार कैबिनेट के कई मंत्री और बड़े चेहरे शामिल हैं, जिनमें बिजेंद्र प्रसाद यादव, नौशाद आलम, बीमा भारती, लेसी सिंह, दुलालचंद गोस्वामी, अब्दुल बारी सिद्दीकी, भोला यादव जैसे नाम शामिल हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सुबह ट्वीट कर मतदाताओं से पांचवें और अंतिम चरण में अधिक मतदान की अपील की। पिछले विधानसभा चुनावों को देखें तो इन सीटों पर एनडीए और महागठबंधन दोनों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिल सकती है। हालांकि इस बार तस्वीर कुछ अलग है। 2010 के चुनावों में बीजेपी और जेडीयू साथ में थे। उस दौरान उपेंद्र कुशवाहा की लोक समता पार्टी और मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा का जन्म नहीं हुआ था। इस चरण में मुस्लिम फ़ैक्टर और मिथिलांचल पर सबकी नज़र रहेगी। सीमंचल में 6 सीटों पर हैदराबाद से सांसद असुद्दीन ओवैसी की पार्टी भी मैदान में है।

चुनाव आयोग के अनुसार, मतदान को लेकर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। राज्य निर्वाचन विभाग के अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी आऱ लक्ष्मणन के मुताबिक, भारत-नेपाल सीमा को सील कर चौकसी बढ़ा दी गई है। सभी मतदान केन्द्रों पर केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों के जवानों की तैनात किए गए हैं। केन्द्रीय सुरक्षा बलों (सीआरपीएफ) तथा राज्य पुलिस की 1,033 कंपनियां नियुक्त की गई हैं। 5,518 संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर अतिरिक्त सुरक्षा के प्रबंध किए गए हैं। इन क्षेत्रों में दो हेलीकॉप्टरों तथा तीन ड्रोनों की तैनाती की गई है। इस चरण में जिन नौ जिलों के 57 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होना है, उनमें 55 विधानसभा क्षेत्रों में मतदाता सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक, जबकि दो विधानसभा क्षेत्र सिमरी बख्तियारपुर और महिषि में दोपहर 3 बजे तक मतदान कर सकेंगे।

बिहार विधानसभा की 243 सीटों के लिए अब तक चार चरणों का मतदान हो चुका है। पांचवें चरण के मतदान के बाद सभी सीटों की मतगणना आठ नवंबर को होगी।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com