छोटा राजन ने कहा, आतंक के खिलाफ लड़ा हूं और आगे भी लड़ता रहूंगा

बाली। जकार्ता में कैद अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन से भारतीय दूतावास के फर्स्ट सेक्रेटरी संजीव अग्रवाल रविवार को मुलाकात करने पहुंचे। अग्रवाल ने बताया कि भारत सरकार का मकसद सिर्फ छोटा राजन को काउंसलर एक्सेस उपलब्ध कराना है। उन्होंने कहा कि, सीबीआई और मुंबई पुलिस की एक टीम जल्द ही छोटा राजन को भारत लाने के लिए इंडोनेशिया रवाना होगी। छोटा राजन मीडिया से बातचीत में कहा कि वह पहले भी आतंक के खिलाफ लड़ता रहा है और आगे भी लड़ता रहेगा।
खबरों के मुताबिक राजन के पास के दाऊद के बारे में बेहद अहम जानकारियां होने की बात बताई जा रही है। राजन की गिरफ्तारी के बाद भारत ने दाऊद इब्राहिम के खिलाफ घेराबंदी तेज कर दी है। यूएई और कई देशों में भारत दाऊद की प्रॉपर्टी सीज कराने का काम पहले ही शुरू करवा चुका है।खबर आ रही है कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्रिटेन दौरे में दाऊद का मुद्दा उठाने वाले हैं।
छोटा राजन पर हमले की आशंका को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार उसे भारत लाने पर विचार कर रही है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राजन को लाने के लिए जाने वाली सीबीआई टीम और पुलिस अफसरों के साथ कुछ कमांडोज भी भेजे जाएंगे। इसके अलावा, तीन स्नाइपर शूटर्स भी दूर से उन पर नजर रखेंगे। इसके पीछे छोटा राजन की दाऊद इब्राहिम से दुश्मनी है। बता दें कि दाऊद अब तक कई बार राजन पर जानलेवा हमला करा चुका है।
छोटा राजन को 1993 मुंबई धमाकों के मास्टरमाइंड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का जानी दुश्मन माना जाता है। सूत्रों के मुताबिक, सरकार राजन के जरिए दाऊद तक पहुंचना चाहती है। छोटा राजन ने दाऊद गैंग से बाली में अपनी जान को खतरा बताया है। छोटा राजन ने भारत सरकार और इंडोनेशिया पुलिस को चिट्ठी लिखकर कहा कि भारत जाना चाहता है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com