कल अपने घर लौट पाएगी पाकिस्तान में रह रही भारतीय गीता

नई दिल्ली। पाकिस्तान में रह रही मूकबधिर भारतीय युवती गीता 26 अक्तूबर को अपने घर लौट आएगी। दोनों देश की सरकारों ने उसकी स्वदेश आने की यात्रा को अंतिम मंजूरी दे दी है। वह गलती से सीमा पार करने के बाद से करीब एक दशक से यहां मौजूद है।

गीता जब सात या आठ साल की थी तब पाकिस्तानी रेंजर्स को 15 साल पहले लाहौर रेलवे स्टेशन पर समझौता एक्सप्रेस में वह अकेली बैठी हुई मिली थी। पुलिस उसे लाहौर के चैरिटेबल ‘इदी फाउंडेशन’ के पास ले गई और बाद में उसे कराची में एक आश्रय स्थल में रखा गया।

23 साल की गीता एक दशक से अधिक समय से यहां इदी फाउंडेशन के आश्रय स्थल में रह रही है। इदी फाउंडेशन के फहद इदी ने कहा कि गीता सोमवार सुबह पीआईए की उड़ान से नयी दिल्ली के लिए रवाना होगी। उसके साथ मैं, मेरे पिता फैसल इदी, मेरी मां तथा मेरी दादी बिलकीस इदी जाएंगे।

गौरतलब हो, गीता की कहानी बजरंगी भाईजान से काफी मिलती जुलती है। इस फिल्म के आने के बाद गीता भी सुर्ख़ियों में आई और दोनों देशों की मदद से अब वह अपने घर लौट पा रही है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com