20/08/2018 08:50 am
भारत को न्याय सिखलाता पाकिस्तान-आतंक का दाग छुड़ाने के जुगाड़ में पाकिस्तान-यूपी में निवेश से मिले 35 लाख से ज्यादा रोजगार, अब इन क्षेत्रों से है इंवेस्टमेंट-नौकरी की उम्मीद-यूपी इन्वेस्टर्स समिट: मुकेश अंबानी की घोषणा, तीन साल में यूपी में 10,000 करोड़ का करेंगे निवेश-ऐसी मुसीबत में मिलेगा इस स्कीम का बड़ा फायदा, बस Aadhaar लिंक कराकर टेंशन फ्री हो जाओ-जींदः अमित शाह ने की बुलेट की सवारी, 'मिशन 2019' का आगाज-बर्थडे स्पेशल: आज है प्रीति जिंटा का बर्थडे, जानिए उनके बारे में कुछ ख़ास बाते...-पहले यूनियन अड्रेस में डॉनल्ड ट्रंप ने दोहराया 'अमेरिका फर्स्ट'-चीड़ के पेड़ से तैयार होगी मोदी की खास जैकेट, नाम दिया गया 'नमोवस्त्र'-डीपीएस स्कूल बस के भीषण हादसे में आखिर इंदौर के आरटीओ पर गिर गिरी गाज-फतवे को लेकर छिड़ी बहस - झींगा, केंकड़ा खाना बताया हराम-12 फुट ऊंची टहनियों पर लटकी मिली दो सगी बहनों की लाश, इस असमंजस से घिरी पुलिस-केंद्रीय मंत्री के संविधान बदलने वाले बयान पर हंगामा, लोकसभा 2 बजे तक स्थगित-AIMIM नेता का ऐलान- केंद्रीय मंत्री हेगड़े की जुबान काटने वाले को 1 करोड़ का इनाम-भारत की आपत्ति पर बोला पाक- जाधव की पत्नी की जूतियों में था संदिग्ध सामान, जांच जारी-थोक महंगाई बढ़ी, खाने पीने की चीजों की कीमतों में इजाफा-क्राइम ब्रांच ने किया कैशक्वाइन गैंग का पर्दाफाश-उत्तर प्रदेश - डायल 100 में तैनात मुख्य आरक्षी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या-अमेरिकी रिपब्लिकन सांसद ने की आत्महत्या-नोटबंदी के बाद कांग्रेस के पूर्व विधायक ने आठ करोड़ रुपये ठिकाने लगाये थे-बैंकों में जमा लोगों का पैसा बिल्कुल सुरक्षित है-नरेन्द्र मोदी-मकोका की तर्ज पर बनेगा यूपीकोका कानून -यूपी सरकार-इस बार मोदी और अमित शाह की गुजरात में दाल गलने वाली नही -शिवानन्द तिवारी-भाजपा गुजरात से डरती है- राहुल गाँधी-धार्मिक आधारों पर देश को बाटना घातक- फारूक अब्दुल्ला-20 फीसदी छात्रों को ही रोजगार मिल पा रहे हैं- इंडस्ट्री एसोसिएशन-गुजरात चुनाव में पीएम मोदी राष्ट्रीय नेता कम, क्षेत्रीय नेता ज्यादा बन गए है- शिवसेना-मुजफ्फरनगर द बर्निंग लव नही किया गया है बैन -उत्तर प्रदेश सरकार-राहुल गांधी कांग्रेस के निर्विरोध प्रेसिडेंट चुने गए-गुजरात विधानसभा चुनाव -बीजेपी ने जारी किया विजन डॉक्यूमेंट-गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले बीजेपी सांसद ने दिया इस्तीफा-क्या मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान मेरी सुपारी देने गये थे - नरेंद्र मोदी-बीजेपी पांचवीं बार गुजरात में बना सकती है सरकार-गुजरात चुनाव - पहले चरण के प्रचार का आखिरी दिन आज-जेल में बंद पूर्व सांसद के पास से छापेमारी में नगदी और मोबाइल बरामद-आधार कार्ड लिंक करने को लेकर सोशल मिडिया वायरल वीडियो का सच-फराह खान ने लालकृष्ण आडवाणी को बनाया निशाना-ऑड -ईवन किसी को कोई छूट नहीं मिलेगी-गुजरात चुनाव में भी राम मंदिर की एंट्री-यशवंत सिन्हा के समर्थन में आयी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और अरविंद केजरीवाल-शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खत्म- जद(यू) ने कसा तंज-गुजरात में चुनाव प्रचार करेंगे भाजपा के मेयर-राम जन्मभूमि मामले की सुनवाई साल 2019 के बाद हो - कपिल सिब्बल-मध्यप्रदेश -बलात्कारियों को फांसी की सजा का विधेयक पास-अफगानिस्तान मामले में महत्वपूर्ण पक्ष है भारत-अमेरिका-संकल्प पत्र के सभी वादे पूरा करे -योगी आदित्यनाथ-गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजो के बाद हो सकती है राहुल गाँधी की ताजपोशी-यूपी - आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या-ताजमहल के पास मल्टीलेवल पार्किंग के लिए नही मिली योगी सरकार को S.C. से राहत-ग्वालियर में नाथूराम गोडसे का मंदिर बनाये जाने पर बीजेपी का बड़ा बयान

बड़ीखबर : कांग्रेस के हाथ से फिसला कर्नाटक, ये रही पांच बड़ी वजह…

कर्नाटक चुनावों के शुरुआती रुझानों से कांग्रेस को निराशा का सामना करना पड़ा है. रुझानों में बीजेपी अकेले बहुमत की ओर बढ़ती दिखाई दे रही है और कांग्रेस का आखिरी किला बताया जा रहा कर्नाटक भी उसके हाथ से फिसलता दिखाई दे रहा है.

बीजेपी के लिए कर्नाटक में आना 2019 के लिहाज से भी काफी अहम माना जा रहा है. दक्षिण भारत में इसे बीजेपी की शुरुआत कहा जा रहा है तो कांग्रेस के लिए आने वाले दिनों में चुनौती और बड़ी होने जा रही है. आइए जानते हैं कि कांग्रेस की इस हार की क्या पांच बड़ी वजहें रहीं.

एंटी इन्कमबेंसी फैक्टर

कर्नाटक को राज्य में एंटी इन्कमबेसी फैक्टर का सामना करना पड़ा. सीएम सिद्धारमैया के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार इंदिरा कैंटीन जैसी योजनाओं के बावजूद लोगों को लुभाने में नाकाम रही. कांग्रेस और बीजेपी दोनों के मैनिफेस्टो में महिलाओं को आरक्षण, युवाओं को शिक्षा और रोजगार के भरोसे जैसे तमाम वादे लगभग एक जैसे ही थे. हालांकि, बीजेपी ने कांग्रेस के शासनकाल में भ्रष्टाचार और केंद्र की योजनाओं और फंड को लागू न करने जैसे मामलों पर राज्य की सरकार को घेरने का काम किया और इसमें सफल भी हुई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन चुनावों में बीजेपी की ओर से प्रचार की कमान संभाली. इस दौरान पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने उनका कदम-दर-कदम साथ दिया. मोदी अपने प्रचार में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर सीएम सिद्धारमैया से जुबानी जंग में अकेले लोहा लेते दिखाई पड़े. कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी ने जमकर कैम्पेनिंग की, लेकिन पीएम मोदी अपनी कैबिनेट के मंत्रियों, कई राज्यों के सीएम के साथ चुनाव प्रचार में उतरे और लोगों को अपने वादों पर भरोसा करवाने में सफल रहे.

बसपा और एनसीपी का जेडीएस के साथ जाना

पारंपरिक रूप से दलित वोटर्स को कांग्रेस के साथ माना जाता है. इन चुनावों में बहुजन समाज पार्टी का जेडीएस के साथ मिलकर चुनाव लड़ना भी कांग्रेस के लिए नुकसानदायक रहा. इसके अलावा कांग्रेस को सेक्युलर वोट के बंटवारे का भी नुकसान उठाना पड़ा. बीजेपी से मुकाबले के नाम पर ये वोटर्स कांग्रेस, एनसीपी और जेडीएस में बंट गए. बहुजन समाज पार्टी और एनसीपी 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए गैर बीजेपी, गैर कांग्रेसी थर्ड फ्रंट बनाने के लिए कांग्रेस से छिटक रही हैं, यही चीज कांग्रेस को भारी पड़ा.

सिद्धारमैया को खुली छूट और आंतरिक गुटबाजी

कर्नाटक चुनावों में कांग्रेस में खेमेबाजी भी देखने को मिली. पार्टी में सीएम सिद्धारमैया को खुली छूट देने का विरोध कांग्रेस के कई नेताओं ने छुपे तौर पर किया. टिकट बंटवारे में भी सिद्धारमैया की ही चली. आने वाले दिनों में पार्टी की हार की एक वजह टिकट बंटवारे में भी तलाशी जाएगी. कई जगहों पर एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस के युवा नेताओं को टिकट मिले तो कई बड़ी सीटों पर कांग्रेस ने जिला और ब्लॉक स्तर के नेताओं को टिकट दिए.

लिंगायत कार्ड फेल होना

कांग्रेस ने चुनावों से ठीक पहले लिंगायत वोटरों को लुभाने के लिए इसे अलग धर्म की मान्यता देने का कार्ड चला था. बीजेपी ने इसे समाज तोड़ने वाला कदम बताया था. राज्य की करीब 76 सीटों पर दखल रखने वाले लिंगायत समुदाय को लुभाने की यह कोशिश कांग्रेस को भारी पड़ी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित साह समेत बीजेपी के दूसरे नेता मतदाताओं को यह समझाने में सफल रहे कि कांग्रेस का यह कदम हिंदू धर्म को बांटने वाला और समाज को तोड़ने वाला है.