ड्रोन से होगी बिहार चुनाव की निगरानी

पटना| बिहार विधानसभा चुनाव में धांधली को रोकने के लिए निर्वाचन आयोग ने महत्वपूर्ण कदम उठाये है| इस बार बिहार चुनाव के लिए ड्रोन का उपयोग किया जा रहा है जिससे चुनाव को सही तरीके से संपन्न कराया जा सके|बिहार में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को जहां देश की दशा-दिशा तय करने वाला करार दिया जा रहा है वहीं इन सबके बीच चुनाव आयोग ने कमर कस ली है। आयोग पहली बार इन चुनावों की निगरानी के लिए ड्रोन का प्रयोग करेगा।

बिहार के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी आर. लक्ष्मणन ने बताया कि चुनाव सर्वेक्षण के लिए पहले हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल किया जा चुका है लेकिन इस बार ड्रोन का इस्तेमाल शायद पहली बार किया जा रहा है|देश के तीसरे सबसे अधिक आबादी वाले राज्य में विधानसभा चुनावों की प्रक्रिया 12, 16, 28 अक्टूबर, एक नवंबर और पांच नवंबर को पांच चरणों में पूरी की जाएगी। मतों की गणना आठ नवंबर को होगी। लक्ष्मणन ने कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखना, पैसों का दुरूपयोग, आदर्श आचार संहिता लागू करना और मतदाताओं की भगीदारी बढ़ाना निश्चित रूप से सबसे ब़डी चुनौती होगी। चुनाव तैयारियों के निरीक्षण के लिए लगभग चार लाख 89 हजार असैनिक अधिकारियों और छह लाख सुरक्षा सैनिकों को तैनात किया गया है।

लक्ष्मणन के मुताबिक चुनाव खर्चो के मामले में पैसा और शराब दो ऎसी चीजें हैं जिन पर निगरानी रखना ब़डी चुनौती है। चुनाव कार्यालय इनके उल्लघंन के लिए अब तक 265 प्राथमिकियां दर्ज कर चुका है। लक्ष्मणन ने कहा कि दूसरी ब़डी चुनौती कानून व्यवस्था बनाए रखना है। राज्य के 62,779 मतदान केंद्रों में छह करो़ड छह लाख मतदाता अपने मत का प्रयोग करेंगे जिनमें तीन करो़ड एक लाख महिला मतदाता शामिल हैं। इनमें से भागलपुर, खागडया, वैशाली और अन्य क्षेत्रों में स्थित कुछ मतदान केंद्र राज्य के दुर्गम इलाकों में स्थित हैं जहां पहुंचना कठिन है। लक्ष्मणन ने कहा कि निर्वाचन अधिकारियों को मतदान केंद्रों तक पहुंचने के लिए एक मुश्किल इलाके से गुजराना होगा और एक नदी भी पार करनी होगी। लक्ष्मणन ने कहा पहली बार मतदान करने जा रहे लगभग 50 लाख नए मतदाताऔं के लिए भी कई तैयारियां की गई हैं।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com