जब राहुल के सामने स्टूडेंट्स बोले, हां, मोदी सरकार कर रही है काम

बेंगलुरु। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी की उस वक्त खासी किरकिरी हो गई जब उनके सामने स्टूडेंट्स ने मोदी की नीतियों का समर्थन किया और देश में सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों को उचित ठहराया।
दरअसल, वह बेंगलुरु के माउंट कार्मल कॉलेज गए थे जहाँ राहुल गांधी स्टूडेंट्स के बीच सवाल-जवाब के सेशन में शामिल हुए। इस दौरान उन्हें बैकफुट पर आना पड़ा जिससे उनकी खासी किरकिरी हुई।

राहुल गाँधी ने स्टूडेंट्स से सवाल किया क्या मोदी सरकार अपनी पॉलिसीज पर काम कर रही है तो उनका जवाब हां था, स्टूडेंट्स बोले, मोदी सरकार की पॉलिसीज काम कर रही हैं। हालांकि, इसके बाद राहुल ने चर्चा का रुख ही मोड़ दिया।

कार्यक्रम के दौरान राहुल अपना भाषण ख़त्म कर चुके थे। बाद में सवाल-जवाब का सत्र शुरू हुआ। एक सवाल पर बातचीत के दौरान राहुल ने स्टूडेंट्स से ही कुछ सवाल किए। वह बोले, क्या स्वच्छ भारत पर काम हो रहा है ? तो  स्टूडेंट्स का जवाब हां रहा। तब राहुल बोले, मैं तो नहीं देख पा रहा कि स्वच्छ भारत अच्छे से काम कर रहा है। क्या आपको लगता है कि यह काम कर रहा है ? तब भी स्टूडेंट्स ने हां कहा।
इस पर एक अध्यापक ने कहा कि शायद स्टूडेंट्स की राय इस पर बंटी हुई है। राहुल बोले, मुझे नहीं लगता कि भारत अच्छे से काम कर रहा है लेकिन शायद आपको लगता है कि यह काम कर रहा है। तब भी स्टूडेंट्स ने हां कहा। इसी तरह मेक इन इण्डिया व युवाओं के लिये जाब के प्रश्न पर भी स्टूडेंट्स ने मोदी का समर्थन किया।

बिहार पर राहुल बोले, बिहार पर हमारी सोच यह थी कि बीजेपी को वहां रोकना जरूरी है। यही वजह थी कि हम तीनों ने मिलकर वहां काम किया। और यह स्ट्रैटजी काम भी कर गई। अब वहां नीतीश कुमार सीएम हैं। लालू सरकार में नहीं हैं। हम पूरी कोशिश करेंगे कि वहां क्लीन गवर्नमेंट रहे। लालू के बेटे ने कल ही बयान दिया है कि करप्शन पर जीरो टॉलरेंस अपनाएंगे।
एक स्टूडेंट ने प्रश्न किया कि इरोम शर्मिला को लेकर आपका क्या कहना है? इरोम शर्मिला मणिपुर में 10 साल से अधिक समय से अनशन पर हैं। जिस पर राहुल का कहना था कि सभी से बात की जानी चाहिए। किसी से भी बात करने में कोई नुकसान नहीं है। (लेकिन उन्होंने इरोम शर्मिला से बातचीत न करने या उनकी अनसुनी किए जाने की बात पर कुछ नहीं कहा।)
इस दौरान राहुल ने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस में सबसे बड़ा अंतर यह है कि वे स्पेस खत्म करना चाहते हैं और हम सबको स्पेस देना चाहते हैं। भारत के लिए मेरा विजन यह है कि मैं जानना चाहता हूं लोग क्या चाहते हैं। मैं लोगों से इसके लिए बात करना चाहता हूं। एफटीआईआई स्टूडेंट्स को चुप करा दिया गया और उन्हें बोलने नहीं दिया गया। सरकार को इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि आप कितनी लंबी हड़ताल कर रहे हैं। बेंगलुरु में लड़कियां पब जाती हैं और वहां उनके साथ मार पीट की जाती है। ऐसा नहीं चल सकता है। भारत जैसे देश में हम किसी पर लगाम नहीं लगा सकते।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com