मोदी पहुंचे मलेशिया, ASEAN में रक्षा-सुरक्षा समेत कई मुद्दों पर करेंगे चर्चा

कुआलालंपुर| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मलेशिया के तीन दिवसीय दौरे के तहत आज यहां पहुंच गए। यहां वह आसियान-भारत और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलनों में दो उच्च स्तरीय बैठकों में शिरकत करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत मलेशिया में भारतीय उच्चायुक्त टी एस तिरूमूर्ति ने किया।

मलेशिया पहुंचने पर मोदी ने ट्वीट किया, ‘कुआलालंपुर पहुंच गया हूं। आज के कार्यक्रमों में आसियान उद्यम एवं निवेश शिखर सम्मेलन और 13वां आसियान-भारत शिखर सम्मेलन एवं आमने-सामने की बैठकें शामिल हैं।’

आतंकवाद समेत कई मुद्दों पर होगी बातचीत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तीन दिवसीय मलेशिया यात्रा में आतंकवाद, मानव तस्करी, समुद्री सुरक्षा, दक्षिण चीन सागर विवाद और व्यापार पर बात करेंगे। इस दौरान मोदी आसियान-भारत और पूर्वी एशिया शिखर-सम्मेलनों में दो शक्तिशाली क्षेत्रीय समूहों को भी संबोधित करेंगे।

मोदी रक्षा और सुरक्षा समेत कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ाने और रणनीतिक संबंधों को नए स्तर पर ले जाने के लिहाज से मलेशिया के प्रधानमंत्री नाजिब रजाक समेत वहां के शीर्ष नेताओं से बातचीत भी करेंगे। दोनों पक्ष कई एमओयू पर दस्तखत कर सकते हैं। प्रधानमंत्री रविवार को पूर्वी एशिया शिखर-सम्मेलन को संबोधित करेंगे।

मोदी ने कहा है कि मलेशिया उनकी सरकार की ‘एक्ट ईस्ट नीति’ के केंद्र में है। भारत की मलेशिया से 2010 से रणनीतिक साझेदारी है। भारत और आसियान की वार्ता में संपर्क का मुद्दा आ सकता है। राजनीतिज्ञ-सुरक्षा, आर्थिक और सामाजिक-सांस्कृतिक स्तंभों पर आसियान-भारत का सहयोग और बढ़ाने के लिए नई कार्ययोजना (2016-2020) पर भी नेता चर्चा करेंगे।

पूर्वी एशिया सम्मेलन में नेता अनियमित विस्थापन, दक्षिण चीन सागर विवाद, कोरियाई प्रायद्वीप के हालात और पश्चिम एशिया पर भी चर्चा कर सकते हैं। दक्षिण चीन सागर में विवादों में ब्रुनेई, चीन, ताईवान, मलेशिया, फिलिपींस और वियतनाम के बीच द्वीपीय और समुद्री नियंत्रण के दावे शामिल हैं।

मोदी रविवार को ईएएस के अन्य नेताओं के साथ आसियान समुदाय की स्थापना पर 2015 की कुआलालंपुर घोषणा पर दस्तखत के साक्षी होंगे और आसियान 2025 पर कुआलालंपुर घोषणापत्र के भी साक्षी बनेंगे जिसे ‘फॉरिन अहेड टुगेदर’ कहा जाता है।

दोनों सम्मेलन मोदी को आसियान और ईएएस के नेताओं के साथ दूसरी बार बातचीत का अवसर प्रदान करेंगे। इससे पहले उन्होंने पिछले साल म्यामां के ने पी तॉ में उन नेताओं से बात की थी।

मोदी रक्षा और सुरक्षा समेत कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय व्यापार और सहयोग को बढ़ाने के तरीकों पर मलेशिया में शीर्ष नेताओं से द्विपक्षीय वार्ता करेंगे, जिससे दोनों देशों के बीच रणनीतिक संबंध एक नए स्तर पर पहुंचेंगे।

मोदी मलेशिया में स्वामी विवेकानंद की एक प्रतिमा का अनावरण करेंगे और मलेशिया को महात्मा गांधी की प्रतिमा भेंट करेंगे। वे डिजिटल इंडिया और 200 स्मार्ट सिटी परियोजना में मलेशियाई कंपनियों के निवेश पर आगे और बातचीत कर सकते हैं।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com