अब भारत में भी होगी हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल

नई दिल्ली। अब वह दिन दूर नहीं, जब देश में भी हवा से हवा में मार करने वाली घातक मिसाइलें होंगी। जिसके बाद भारत भी उन चुनिंदा देशों में शामिल हो जाएगा, जिसके पास यह ताकत है। पिछले साल ही सुखोई के साथ हवा से हवा में मार करने वाली अस्त्र मिसाइल का नौ बार सफल प्रयोग किया गया। अब अगले माह इसके कंट्रोल का परीक्षण किया जाएगा। इसके बाद इसकी सेना में शामिल करने की कवायद शुरू होगी।
भारत के तरकश में 2016 तक एक और मिसाइल अस्त्र शामिल हो सकता है। आस्त्र की मारक क्षमता 40 से 60 किलोमीटर होगी। यह हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल है। यह मिसाइल भारत के लिए इसलिए महत्वपूर्ण है। क्योंकि हम पिछले एक दशक से अस्त्र जैसे बीवीआर (बिआंड विजुअल रेंज) एयर कॉम्बैट मिसाइल के विकास में संघर्षरत हैं।
एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के अनुसार, एक बार अगर हर मौसम में कारगर अस्त्र मिसाइल बनकर तैयार हो जाता है तो भारत अमेरिका, रूस, फ्रांस और इसराइल जैसे देशों की श्रेणी में शामिल हो जाएगा, जिन्होंने दुश्मन देशों के सुपरसॉनिक लड़ाकू विमानों को ढूंढ निकालने और उनको मार गिराने वाले मिसाइल का विकास कर लिया है। फिलहाल भारत के लड़ाकू विमान रूस, फ्रांस और इजराइल के बीवीआर मिसाइल्स से लैस हैं।
अस्त्र परियोजना को मार्च 2004 में हरी झंडी मिली थी। जिसकी शुरुआती लागत 955 करोड़ रुपए रही लेकिन तकनीकी खामियों के कारण अस्त्र कई डेडलाइन को पार कर गया। पिछले साल मई में सुखोई 30 एमकेआई से इसको दागा गया।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com