नवाज ने लश्कर के विरुद्ध कार्रवाई की जताई प्रतिबद्धता, अमेरिका खुश

नई दिल्ली । मुंबई हमले के लिए जिम्मेदार लश्कर ए तैयबा के विरुद्ध कार्रवाई करने के पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की प्रतिबद्धता को महत्वपूर्ण प्रगति बताते हुए अमेरिका ने इसका स्वागत किया है। ओबामा प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भारतीय संवाददाताओं से कहा यह निश्चय ही कुछ नया है और बहुत महत्वपूर्ण है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा और प्रधानमंत्री ने लश्कर-ए-तैयबा और उसके सहयोगी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर पाकिस्तान के प्रयासों पर चर्चा की।

मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार, ओवल ऑफिस में ओबामा-शरीफ मुलाकात के बाद अधिकारी ने कहा कि वे लोग नेशनल एक्शन प्लॉन के तहत पाकिस्तान की प्रतिबद्धता का स्वागत करते हैं। इसके बाद जारी एक संयुक्त बयान में पाकिस्तान ने लश्कर-ए-तैयबा और उसके सहयोगी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर प्रतिबद्धता प्रकट की।

अधिकारियों के अनुसार इस आतंकवादी संगठन के खिलाफ कार्रवाई का मुददा खुद ओबामा ने उठाया। उन्होंने शरीफ पर लश्कर-ए-तैयबा के खिलाफ कार्रवाई की प्रतिबद्धता जाहिर करने को लेकर दबाव बनाया जो मुंबई में हुए आतंकी हमले के लिए जिम्मेदार संगठनों में से एक है।

शांति प्रक्रिया में भूमिका निभाने से अमेरिका का इनकार

वहीं, भारत-पाकिस्तान शांति वार्ता प्रक्रिया में अपनी किसी भूमिका से साफ शब्दों में इंकार करते हुए अमेरिका ने कहा है कि जब तक दोनों देश मिलकर इसके लिए नहीं कहेंगे, तब तक अमेरिका की कोई भूमिका नहीं होगी। एक अधिकारी ने अमेरिका के इस रुख को साफ करने के साथ ही रेखांकित किया कि दोनों पड़ोसी देशों के बीच मुद्दों को सुलझाने का सबसे बेहतर तरीका तो यही है कि वे सीधे बातचीत करें।

ओबामा प्रशासन के अधिकारी ने भारतीय पत्रकारों के एक समूह को बताया कि राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनके वार्ताकारों ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तथा उनकी टीम के साथ नियंत्रण रेखा की स्थिति पर विचार विमर्श किया। पाकिस्तान अक्सर अमेरिका से इसमें शामिल होने की अपील करता रहता है।

अधिकारी ने बताया कि बैठक के दौरान हमने अमेरिका की इस प्रतिबद्धता की पुष्टि की कि हम तभी शामिल होंगे जब भारत और पाकिस्तान चाहेंगे। अमेरिका की किसी नीति में कोई बदलाव नहीं है। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि दोनों देशों के लिए अमेरिका की जो नीति रही है यह उसी का दोहराव है कि वे इन मुद्दों को द्विपक्षीय आधार पर सुलझाएं और यदि भारत और पाकिस्तान कहेंगे तो हम और अन्य देश इसमें सहयोग की भूमिका अदा कर सकते हैं।

अधिकारी ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि अमेरिका को पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में कथित भारतीय गतिविधियों के संबंध में पाक की ओर से डोजियर का एक सेट मिला है। विदेश मंत्री जॉन कैरी के साथ बुधवार को हुई मुलाकात में प्रधानमंत्री शरीफ ने इस संबंध में लिखित सामग्री सौंपी थी।

उन्होंने कहा कि जैसा कि हम काफी पहले से कहते आ रहे हैं और विदेश मंत्री ने भी रेखांकित किया कि मुद्दों को सुलझाने का सबसे बेहतर तरीका दोनों पड़ोसियों के बीच सीधी बातचीत है। हम ऐसी वार्ता को समर्थन देने के लिए तैयार हैं। हमें ये डोजियर अभी मिले हैं। हमने उनकी समीक्षा नहीं की है और इस समय उनकी विषय वस्तु पर हम कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।

अधिकारी ने बताया कि भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता के तौर तरीकों को उन्हें खुद तय करना होगा। वार्ता किस प्रकार की होनी चाहिए, किन शर्तों पर होनी चाहिए या उसके लिए किसी प्रकार की सिफारिश करना, इस प्रकार की कोशिशें करना अमेरिका की नीति नहीं है। यह कई वर्षों से हमारी नीति रही है। अमेरिका की इस नीति में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

उन्होंने कहा कि हम केवल यह उम्मीद करते हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता हो, संबंध सामान्य हों और वे क्षेत्र में शांति की ओर मिलकर कदम बढ़ाएं तथा अपने अपने देशों की समृद्धि के लिए काम करें। उन्होंने साथ ही कहा कि अमेरिका का भारत या पाकिस्तान किसी की ओर झुकाव नहीं है।

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बीच गुरुवार को वार्ता हुई, जिसमें आतंकी समूहों को समर्थन देने और परमाणु सुरक्षा जैसे अहम मुद्दों पर चर्चा हुई।

इससे पहले भारत के खिलाफ डोजियर का अमेरिका द्वारा संज्ञान नहीं लेने के बावजूद पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे में अमेरिका को तीसरा पक्ष बनाने की पेशकश कर एक बार फिर भारत को घेरने की चाल चली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अमेरिकी सीनेटरों से कहा कि भारत-पाकिस्तान के बीच कश्मीर मुद्दे में दखल देने के लिए अमेरिका सबसे अच्छा साबित होगा।

दोनों नेताओं की बैठक व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में हुई। यह साल 2013 में हुई बातचीत के बाद दोनों नेताओं के बीच दूसरी द्विपक्षीय वार्ता थी। व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा, शरीफ की यात्रा अमेरिका-पाक के स्थायी रिश्तों को रोशन करेगी और आपसी हितों के मुद्दों पर दोनों देशों के सहयोग को मजबूत बनाने का अवसर देगी।

इसमें आर्थिक विकास, व्यापार और निवेश, स्वच्छ ऊर्जा, ग्लोबल स्वास्थ्य, जलवायु परिवर्तन, परमाणु सुरक्षा, आतंकवाद निरोध और क्षेत्रीय स्थायित्व शामिल हैं। बयान में यह भी कहा गया कि ओबामा प्रधानमंत्री शरीफ के साथ स्थिर, सुरक्षित एवं खुशहाल पाकिस्तान की दिशा में हमारे साझा हितों को बढ़ाने के तरीके पर चर्चा के लिए उत्साहित हैं।

इससे पहले, शरीफ ने गुरुवार को सीनेट की विदेश संबंध समिति के अध्यक्ष सीनेटर बॉब कोरकर और इसके अन्य सदस्यों से कहा, भारत के साथ कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए किसी तीसरे पक्ष को शामिल करना जरूरी होगा और अमेरिका इसके लिए एकदम उपयुक्त रहेगा। शरीफ ने अमेरिकी सांसदों को भारत से रिश्ते बेहतर करने के लिए अपने उस चार सूत्री शांति पहल के बारे में बताया जिसे उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा के सामने रखा था।

इससे पहले पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज ने बुधवार को अमेरिकी विदेश मंत्री जान कैरी को तीन डोजियर सौंपे थे, जिनमें पाकिस्तान में विध्वंसकारी गतिविधियों में भारत के कथित रूप से शामिल होने के सबूत थे। हालांकि ओबामा प्रशासन ने नई दिल्ली के खिलाफ इस्लामाबाद की इस चाल का संज्ञान नहीं लिया।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, वह पाकिस्तान की ओर से सौंपे गए किसी डोजियर के अमेरिका द्वारा स्वीकार किए जाने से ‘अवगत नहीं’ है। हमारा मानना है कि भारत और पाकिस्तान को राजनीतिक सहयोग से लाभ होगा। हम तनाव कम करने के लिए दोनों देशों को सीधे वार्ता में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। सीनेट की विदेश संबंध समिति अमेरिका की विदेश नीति देखने के लिए अधिकृत है।

पाकिस्तान बार बार कश्मीर को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाने की कोशिश करता रहा है। वह इसे द्विपक्षीय की बजाय अंतरराष्ट्रीय मसला बनाने की जुगत लगाता रहा है। जबकि भारत पाकिस्तान के ऐसे किसी भी प्रयास को हमेशा खारिज करता रहा है।

पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाज चौधरी ने आरोप लगाया है कि उनके देश में विध्वंसक गतिविधियों में भारत की संलिप्तता रही है। और भारत के साथ होने वाली अगली वार्ता में इसके सबूत के तौर पर उसे तीन डोजियर सौंपे जाएंगे। चौधरी ने कहा, जब हम भारत से वार्ता करेंगे तो उसे इन डोजियर की प्रतियां सौंपेंगे।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com