छोटे चौधरी को अब कांग्रेस का ही सहारा

लखनऊ। सत्ता सुख के लिए हर चुनाव में दल बदल करने वाले रालोद मुखिया चौधरी अजित सिह का अब कांग्रेस का ही सहारा बचा है। क्योंकि भाजपा सपा एवं महागठबंधन में उनकी बात नहीं बनी।

बसपा उनके साथ किसी तरह का तालमेल करने को राजी नहीं है। रालोद मुखिया चौ अजित सिंह इन दिनांे असमंजस में है। क्योंकि उनकी गठबंधन की बात किसी से नहीं बन पा रही है।

अब कांग्रेस के साथ ही चुनावी गठबंधन करने पर विचार कर रहे है। हालाकि कांग्रेस अपने दम पर यूपी में चुनाव लडने का ऐलान कर चुकी है। लेकिन कांग्रेस के साथ उनकी दोस्ती पुरानी है।

2012 के विधानाभा एवं 2014 के लोकसभा चुनाव वह कांग्रेस के साथ गठबंधन कर लड चुके है। यूपीए सरकार मे यह कैबिनेट मंत्री भी रह चुके है। इन चुनावों में रालोद का लाभ कम नुकसान ज्यादा हुआ।

इसीलिए वह 2017 का विधानसभा चुनाव कांग्रेस को छोड दूसरे दलों के साथ लडना चाहते थे। सबसे पहले उन्होंने बिहार के सीएम नितीष कुमार की अगुवाई बने महागठबंधन के साथ जुडने की पहल की।

लेकिन वहां बात नहीं बनी। इसके बाद भाजपा के साथ दोस्ती करने का प्रयास किया बात भी लगभग तय हो गयी थी। लेकिन भाजपा नेताओं के ही विरोध के कारण यह दोस्ती बनने से पहले से ही टूट गयी।

इसी तरह सपा एवं बसपा रालोद के साथ किसी तरह का समझौता करने को राजी नहीं है। अब मजबूरी में रालोद कांग्रेस के साथ ही गठबंधन करने की तैयारी कर रहा है। इसीलिए पार्टी के प्रमुख नेता अपने अपने क्षेत्रों में प्रचार कर रहे है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com