चातुर्मास में किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता

हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को आरम्भ करने में मुहुर्त और समय का विशेष ध्यान दिया जाता है। 12 जुलाई से अगले 4 महीनों के लिए किसी भी तरह के शुभ कार्य करने में रोक लग जाएगी। 12 जुलाई को देवशयनी एकादशी है। इस एकादशी के दिन से भगवान विष्णु योग निद्रा में चार महीनों के लिए छीर सागर में चले जाएंगे। भगवान की इस चार महीनों की निद्रा को चातुर्मास कहा जाता है। चातुर्मास में किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता। शास्त्रों में इन चार महीनों में पूजापाठ और भजन कीर्तन का विशेष महत्व होता है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com